किसी के बारे में फैसला उसे जाने बिना मत लो

a094328dbcbadf3c46e880a5baa5ae71विशाल हिमालय की तलहटी  में हाथियों का एक विशाल झुन्ड़  रहता था। उन का नेता बहुत द्यालु था। वह अपनी माँ से ब हुत अधिक प्यार करता था। इसी लिये जंगली फलों  में से जो सब से अच्छा था  वह माँ के लिये भेज  देता था। पर उस कि माँ को उन फलों में से कुछ नहीं मिला। अचानक हाथियों  के  काफिले को छोड  कर माँ  को  साथ  ले कर गायब हो गया । वह झील के किनारे रहने लगा जो हजारों कमलों से ढकी थी एक दिन उस ने सुना  कि बनारस से आया एक हाथियों का समूह रास्ता भूल गया  है।

सफेद हाथी ने कहा,” तुम चिन्ता मत करो  क्यों कि मैं जंगल-का चप्पा-चप्पा  जानता  हूँ।” एक पड़ोसी से  उसे पता चला उस के  राजा का अपना हाथी मर गया है और वह अब नये हाथी की खोज में है।जंगल  में  देख-भाल  करने वाला बहुत उत्साहित था  वह राजा के  पास गया और उस से बोला,”अगर आप हाथी को सिखाने वाले को उस के साथ भेजेगें तो वह विशाल सफेद हाथी को भिजवा देगें।”

राजा यह सुन कर ब हुत खुश हो गया।कई दिन की यात्रा करने के बाद जं गल के जानवरों को सिखाने  वाले  लोगों का समूह झील के किनारे पँहुचा। सफेद हाथी  अपनी  माँ के लिये  कमल के फूल  के तने  जमा कर  रहा था।

हाथी ने उन का विरोध नहीं किया पर सोचा बनारस जा कर उन के राजा से प्रार्थना  करेगा कि वह उसे छोड़ दें।

वहाँ उस के स्वागत के लिये पूरी तैयारियाँ की गयी थी।पर अब उस ने पानी या खाने को नहीं छुआ  तो राजा  चिन्तित हो गया। उस राजा को हाथी ने बताया ,” वह तब तक खाना नहीं खायेगा जब तक वह माँ को नहीं देखेगा।”

शिक्षा—अपनों को सदैव प्यार देना चाहिये और उन की देख भाल करनी चाहिये।